Topper Banne ke 5 Tips : 5 ऐसी बाते जो किसी भी छात्र को टॉपर बना सकती है

0
87
topper banne ke 5 tips hindi
topper banne ke 5 tips hindi

दोस्तों हर इंसान प्रत्येक क्षेत्र में स्वयं को सबसे आगे देखना चाहता है परन्तु अपने अंदर से कुछ बदलना नहीं चाहता है ! जब तक आप स्वयं के अंदर बदलाव नहीं कर सकते हो तब तक जीवन के किसी भी क्षेत्र ने सफल नहीं हो सकते हो इस लेख में हमने विद्यार्थियों से जुड़े कुछ ऐसे टिप्स शेयर किये है जिनको फॉलो करके कोई भी छात्र टॉपर बन सकता है

नकारात्मक सोच वाले छात्रों मित्रों से दूर रहे Negative thinking students stay away from friends

व्यक्ति के जीवन में सबसे बड़ा हाथ उसकी सोच का है ! नकारात्मक सोच ( Negative Thinking ) इंसान को लक्ष्य से पीछे ले जाती है ! जबकि सकारात्मक सोच ( Possitive Thinking ) उसे लक्ष्य ( Aim) तक पहुंचने में मदद करती है ! नकारात्मक सोच वाला व्यक्ति जीवन में हर जगह समस्याओं से घिरा रहता है ! अपने पूरे जीवन में संघर्ष करता रहता है !वह अपनी सोच के कारण कभी आगे नहीं बढ़ पाता है
आज के युग में आपको नकारात्मक सोच वाले व्यक्ति पीछे धकेलने में लगे रहते है ! निर्णय आपके हाथ में है या तो आप उनकी बात मान कर हिम्मत हार जाए या धीरे धीरे ही प्रयास करते रहे !आपको हौसला देने वाले या आपकी जीत पर आपकी प्रशंसा करने वाले लोग बहुत कम मिलते हैं! आपको पीछे धकेलने वाले आपके मित्र कैसे हो सकते हैं|

जितना हो सके नकारात्मक सोच वाले विद्यार्थियों से दूर रहे !आप स्कूल या कॉलेज में सकारात्मक सोच वाले छात्रों के साथ अलग ग्रुप बना सकते हैं जिसमे आप अपने लक्ष्य को लेकर बाते कर सकते है या आप एक दूसरे का मनोबल बढ़ा सकते है ! आपने स्कूल कॉलेजों में भी देखा होगा जो छात्र जैसा होता है वह उसी प्रकार से अपनी संगत वाले छात्रों का चयन करता है !

अगर आप पहले कहीं नकारात्मक संगत में थे अब बदलाव करना चाहते हैं तो कुछ ऐसे छात्रों को ढूंढिए जो अच्छी सोच रखते हो पढ़ाई में अव्वल हो उनके साथ अपना अच्छा तालमेल बनाकरउनके साथ लग जाइए !उनकी हर एक एक्टिविटी पर गौर करिए और धीरे धीरे उन पर चलने की कोशिश करिए ! आपमें भी कहीं ना कहीं कुछ तो अच्छे गुण आ ही जाएंगे !

कुछ लोगों की सोच तो इतनी खराब होती है कि वह होशियार छात्रों को तरह-तरह के षड्यंत्र रच कर उन्हें डूबाने की कोशिश करते हैं ! अगर आपने टॉपर बनने का दृढ़ निश्चय कर ही लिया है तो आपको गलत सोच,गलत व्यवहार वाले छात्रों से दूर ही रहना होगा ! न तो इनसे ज्यादा मित्रता रखें और ना ही इनसे दुश्मनी करें !

दूसरे छात्रों का अनुसरण ना करें Do not follow other students

हर छात्र की पसंद-नापसंद आदतें शारीरिक बनावट मानसिक स्तर एवं सोच अलग-अलग प्रकार की होती है !जिसका हम कोई अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं ! किसी छात्र को सारा दिन सोकर रात में पढ़ना अच्छा लगता है,तो किसी को रात में जल्दी सो कर सुबह को जल्दी उठकर पढ़ना अच्छा लगता है|

किसी छात्र को दोपहर में खाना खाने के बाद नींद आ जाती है ! किसी छात्र को पढ़ाई के दौरान बीच-बीच में बोरियत दूर करने के लिए दोस्तों के साथ मस्ती करना अच्छा लगता है ! किसी को याद करते समय गाना सुनना पसंद है तो किसी को पढ़ाई के बीच में चाय पीना पसंद है तो किसी को धूम्रपान करना भी पसंद होता है ! आजकल के छात्रों में धूम्रपान का क्रेज बढ़ता जा रहा है|

छात्रों में इस तरह की विशेषताएं पाई जाती है इनमें से कुछ खूबियां है तो कुछ खामियां होती है ! कई बार देखने पर पता चलता है कि एक अच्छा छात्र दूसरे गलत संगत वाले छात्रों की नकल करने लग जाता है ! वह धूम्रपान करना शुरू कर देता है और चाय पीने की आदत डाल लेता है दिन में सोकर रात में पढ़ाई करने लग जाता है ! जिसकी वजह से उसे रात में भी जल्दी नींद आ जाती है और वह ठीक से पढ़ नहीं पाता है|

अगर आप भी ऐसा करते है!तो आप स्वयं को गड्ढे में धकेल रहे है ! कई बार देखने पर पता चला कि आपके किसी दोस्त ने किसी कोचिंग सेंटर का चुनाव किया तो दूसरे छात्र भी उसके साथ चल देते हैं चाहे उनका लक्ष्य वहां पर जाकर भी समय बर्बाद करने का ही हो ! हमने आपको शुरू में ही बताया था कि हर छात्र की प्रकृति स्वभाव अलग-अलग होती है इसलिए किसी भी काम को अपने अनुरूप ही करें न कि जो दूसरे कर रहे हैं वही आप करें|

इसी से मिलता-जुलता एक और केस सामने आता है ऐसे बहुत से छात्र होते हैं जो दूसरे छात्रों को देख कर अपने विषयों का चुनाव करते हैं चाहे उनका उस विषय में इंटरेस्ट ना हो ! ऐसा करना किसी भी छात्र के लिए सरासर गलत होता है ! हर छात्र को अपनी अक्षमता अपनी योग्यता के अनुरूप ही विषयो का चुनाव करना चाहिए नही तो आप जिंदगी भर ना तो ठीक से पढ़ पाओगे और न ही आगे बढ़ पाओगे|

अगर हमें किसी दूसरे छात्रों की नकल करनी ही है ! तो अच्छी आदतों की नकल करें न की गलत आदत की क्योंकि इस दुनिया में कोई भी इंसान पूरी तरीके से परफेक्ट नहीं है ! हर किसी में कोई ना कोई कमी जरूर होती है ! कोई छात्र दो 2 घंटे पढ़ने के बाद बीच-बीच में कुछ देर आराम करता है तो अच्छी बात है आप भी ऐसा कर सकते हैं ! अगर किसी छात्र को नाश्ते में हल्का भोजन पसंद है तो आप भी ले सकते हैं ! अगर कोई टॉपर छात्र आपको सही सलाह दे रहा है तो आप उसका पालन कर सकते हैं|

शॉर्टकट कभी न अपनाएं Never take shortcuts

आप विद्यार्थी जीवन में शॉर्टकट अपनाकर पास तो हो सकते हो परंतु टॉपर का मुकाम कभी भी हासिल नहीं कर सकते ! अगर आप टॉपर बनना चाहते है तो आपको प्रत्येक विषयों को गहराई से अध्ययन करना होगा !गलत संगत वाले विद्यार्थी स्वयं तो कभी सही ढंग से पढ़ नहीं पाते हैं ! परंतु कुछ अच्छी पढ़ाई करने वाले छात्र भी उनके झांसे में जल्दी आ जाते हैं जिसके कारण उनकी पढ़ाई भी काफी डिस्टर्ब हो जाती है !

कुछ विद्यार्थियों कि सोच ये रहती है कि पढ़ने की क्या जरूरत है पिछले 5 साल के प्रश्न पत्र याद कर लेंगे और पास हो जाएंगे ! कभी उनके मन में टॉपर बनने का सपना भी नहीं आता इसलिए वह कभी टॉपर बनने के लिए पढ़ाई ही नहीं करते सिर्फ पास होने के लिए पढ़ाई करते हैं ! इसी के चक्कर में वे फैल भी हो जाते है ! और ये शार्ट कट उनके भविष्य में तकलीफ देह बन जाता है और उन्हें आगे चलकर पछतावा भी होता है|

दोस्तों आप शॉर्टकट अपना कर किसी भी फील्ड में महान नहीं बन सकते हैं शॉर्टकट अपनाने का अर्थ स्वयं के भविष्य के साथ और अपने माता-पिता की अपेक्षाओं के साथ खिलवाड़ करना है ! हम आपसे एक और बात जानना चाहते हैं आप शॉर्ट कट क्यों अपनाना चाहते हैं इसलिए की इसमें मेहनत कम करनी पड़ती है या इसलिए कि आपमें मेहनत करने की योग्यता नहीं है ! अगर आप ऐसा करने के बारे में सोचते हैं तो टॉपर बनने का ख्याल मन से निकाल फेकिये|

याद रखिए एक उच्च स्तरीय सफलता की प्रथम शर्त यह है ! ईमानदारी से की जाने वाली कड़ी मेहनत ! अगर आप टॉपर्स बनने के बारे में सोचते हो तो दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढ़ो ! क्योंकि जीवन संघर्ष का ही दूसरा नाम है !आप इच्छाशक्ति से आगे बढ़े शॉर्टकट से दूर रहे जीवन में सफलता आपके कदम चूमेगी|

भाग्य भरोसे कभी ना रहे Never trust fortune

अगर आप अपनी स्कूल कॉलेज लाइफ में टॉपर बनना चाहते हैं ! तो एक बात हमेशा याद रखना कभी भी किस्मत या भाग्य के भरोसे मत रहना क्योंकि भाग्य भरोसे रहने वाले छात्र जीवन में किसी भी क्षेत्र में कामयाब नहीं हो सकते ! बहुत से नकारात्मक विद्यार्थी की सोच इस प्रकार की होती है कि अगर किस्मत में होगा तो पास हो जाएंगे ! मेहनत करके हमें कौन सा तीर मारना है ! हमे तो फिर भी अपना छोटा-मोटा काम करना है|

दोस्तों ऐसी सोच रखने से दुनिया में कोई भी व्यक्ति आज तक सफल नहीं हो पाया है और ना ही आगे सफल हो पाएगा ! भाग्य भरोसे बैठकर आप केवल अपना समय बर्बाद कर सकते हैं ! जीवन में भाग्य भी आपका साथ तभी देता है ! जब आप विश्वास के साथ मेहनत करते हो|


इस बात का अंदाजा ऐसे भी लगा सकते हैं कि किसी ऐसे सफल आदमी को देखो जो बिना कुछ किए भाग्य भरोसे बैठकर सफल हो गया हो किसी ऐसे विद्यार्थी को ही देख लीजिए जो बिना पढ़ाई किए किस्मत के सहारे टॉपर बन गया हो ! भाग्य पर भरोसे की जरूरत तब होनी चाहिए जब आप अपने किसी भी लक्ष्य के लिए ईमानदारी से मेहनत कर रहे हो और उसे सफलता नहीं मिल पा रही हो ! कहते हैं ना भाग्य भी उसी का साथ देता है जो मेहनत और ईमानदारी के साथ कार्य करता है|

भाग्य तो जुए में आजमाया जाता है सफलता के लिए संघर्ष करना पड़ता है |

आपने ऐसे भी बहुत से लोग देखे होंगे ! जिनक पास कुछ समय के लिए कहीं ना कहीं से थोड़ा सा पैसा आ भी जाता है लेकिन वह इतनी जल्दी ही चला भी जाता है ! जितनी तेजी से आपके पास आया था ! मेहनत ईमानदारी और आत्मविश्वास से मिलने वाले सफलता लंबे समय तक बरकरार रहती है और उसमें अपना अलग ही मजा होता है जिसको शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है|

मोबाइल से दूरी बनाएं Make Distance from Mobile

दोस्तों आज के समय में मोबाइल Mobile विद्यार्थियों के लिए सबसे बड़ी बाधा बनता जा रहा है ! जिसके कारण विद्यार्थी अपनी पढ़ाई का आधे से ज्यादा समय मोबाइल पर गुजारते हैं ! हमारी पढ़ाई के समय भी मोबाइल को बार बार चेक करने की आदत बढ़ती जा रही है जो आने वाले समय में और देखने को मिलेगी ! मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से हमारे मस्तिष्क पर भी काफी असर पड़ता है जिसके कारण आज के विद्यार्थियों की एकाग्रता भंग हो रही है !

मोबाइल से निकलने वाली किरणें हमारे मस्तिष्क को प्रभावित करती है ! मोबाइल के ज्यादातर इस्तेमाल से पढ़ाई में ज्यादा तरक्की तो कभी नहीं हो सकती है !आप अपना आत्मविश्वास भी खो सकते हैं जिसके कारण आप अपने आप को नीचा समझने लगते हैं ! मोबाइल का इस्तेमाल आपको तभी करना चाहिए जब बहुत जरूरी हो या किसी से बात करनी है तो काम की बात करें न कि के घंटों तक बात करते रहे ! इधर उधर की फालतू बातों में समय बर्बाद ना करें जिसके कारण आप अपने आप को सिर्फ धोखा दे सकते हैं ! विद्यार्थी जीवन में ज्यादातर विद्यार्थी मोबाइल का सही उपयोग कम दुरुपयोग ज्यादा करते हैं जिसका असर उनकी पढ़ाई पर भी देखने को मिलता है !

पढ़ाई के समय विद्यार्थी अपने मोबाइल फोन को स्विच ऑफ रखने की आदत डालें जिसके कारण हमारा ध्यान बार-बार मोबाइल पर आने वाले नोटिफिकेशन को चेक करने के लिए नहीं जाएगा आपकी यही आदत आपको सफलता प्राप्त करने में बहुत मदद करेगी ! इसलिए जितना हो सके पढ़ाई में आनंद लीजिए तभी आप अपना मन पढ़ाई में मन लगा पाओगे अगर आप जबरदस्ती मन को मार कर पढ़ाई कर रहे हैं तो आप बैठकर सिर्फ अपना समय बर्बाद कर रहे है !

इस ब्लॉग में हमने विद्यार्थियों को टॉपर बनने में मदद करने वाले कुछ महत्वपूर्ण टिप्स के बारे में बताया है इन टिप्स का सभी विद्यार्थियों को उपयोग करना चाहिए ! दोस्तों आप हमें कमेंट में बताइये की आपको ये ब्लॉग कैसा लगा ताकि हमे भी आपका सपोर्ट मिलता रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here