Patience Kya Hai hindi : सफल होने के लिए धैर्य रखना बहुत जरूरी है |

1
98

आपने धैर्य के बारे में ज़रूर सुना होगा जब भी आप मेहनत करते हो और आपको रिजल्ट नहीं मिलता तो बहुत से लोग आपको समझाने के लिए बोलते है कि धैर्य रखो आपको सफलता ज़रुर मिलेगी , जब भी कोई व्यक्ति जल्दबाजी में कोई काम करता है तो उसे बहुत से लोग बोलते है कि धैर्य से काम लो तभी आप कुछ कर पाओगे, यानि कि किसी न किसी रूप में हम धैर्य के बारे में जरूर सुनते रहते है|

लेकिन क्या आप जानते है कि धैर्य क्या होता है और यह किस प्रकार कार्य करता है अगर आप इन सभी के बारे में नहीं जानते तो आज हम आपको इस लेख में बताने वाले है कि धैर्य क्या है Patience Kya Hai और आपको इसके बारे में क्यों जानना जरूरी है |

एक बात हमेशा याद रखना-” जिसके अंदर धैर्य नहीं है उसे कभी सफलता नहीं मिल सकती है| “

अगर आप किसी भी क्षेत्र में बड़ा काम करना चाहते हो तो आपको धैर्य रखना बहुत जरूरी होता है क्योंकि कोई भी महान कार्य एक दिन में नहीं होता है | अगर आप अपने फील्ड को बार-बार बदल रहे हैं तो आपके सफल होने के चांस बहुत कम हो जाते हैं | क्योंकि इस दुनिया में कोई भी व्यक्ति जो आज बहुत बड़े मुकाम पर है तो कहीं ना कहीं उसे पाने में उसका वर्षो से संघर्ष और मेहनत रही होगी तब जाकर आज वे सफल है|

अगर वे भी बार बार असफल होने के बाद अपना करियर बदलते रहते तो आज वे जिस मुकाम पर है क्या वे ऐसा कभी कर पाते या दुनिया उनके बारे में जान पाती कभी भी नहीं | लेकिन वे अपना करियर चुनने के बाद उसमे असफल भी हुए उनके सामने हजारों प्रकार की मुश्किलें भी आयी लेकिन फिर भी उन्होंने अपना धैर्य नहीं खोया और उन्होंने तब तक मेहनत जारी रखी जब तक कि उन्हें सफलता नहीं मिल गई|

हम किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले उसमे सफल होने की सोचने लगते है | कि बस जल्दी-जल्दी कार्य करो और सफल हो जाओ , ऐसा न तो कभी किसी के साथ हुआ है और न ही आगे होगा यह केवल आपका भ्रम हो सकता है | आपको सफलता प्राप्त करने का एक लंबा रास्ता तय करना होगा|

जिसमे आपके सामने तरह तरह की मुश्किलें सामने आएगी अगर आप उन मुश्किलों का सामना ख़ुशी खुशी कर गए | तो आपको सफलता जरूर मिलेगी | सफलता मिलने में थोड़ा समय लग सकता है लेकिन अगर आप लगे रहोगे तो एक न एक दिन जरूर मिल जाएगी इसलिए कहा जाता है कि सफलता पाने के लिए धैर्य रखना जरूरी है|

यह बताया जाता है कि किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए लगभग 1000 दिन का समय उसे समझने या काम को जमने में लग जाता है उसके बाद ही हम कहीं पहुंच पाते हैं|

सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान इसलिए कहां जाता है जिन्होंने 24 साल क्रिकेट खेली है | परंतु अगर वे 2,3 क्रिकेट खेलने के बाद यह बोलते कि अब मैं हॉकी खेलूंगा | तो क्या आज वे दुनिया के महान क्रिकेटरों में से एक होते “बिल्कुल नहीं”

ऐसे ही उदाहरण दुनिया में भरे पड़े हैं जिन्होंने अपने आप को किसी एक क्षेत्र में बिना किसी की परवाह किए पूरी तरह से लगा दिया आज दुनिया उन्हें सफल लोगों के रूप में जानती|

यहां पर धैर्य का मतलब इस बात से नहीं है कि आपको बैठकर प्रतीक्षा करनी है | कि में इस काम में बिना कुछ मेहनत के चार या पांच साल लगाऊंगा | उसके बाद मुझे सफलता मिल जाएगी | बल्कि धैर्य का मतलब इससे है कि आपके द्वारा किए जा रहे लगातार प्रयास का कोई रिजल्ट नहीं मिल पा रहा है तो ऐसे में आपको रिजल्ट के लिए धैर्य रखना है|

बिना किसी जानकारी के एक्शन लेना भी एक पागलपन है | जब तक किसी चीज के बारे में सही से ज्ञान न हो और आप उस क्षेत्र में सफल होना चाहते है | तो पहले उस कार्य के बारे में अपना ज्ञान बढ़ाएं | तभी आप उस कार्य में आगे बढ़ पाओगे|

हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि धैर्य का सीधा संबंध हमारे मन मस्तिष्क और हृदय से होता है क्योंकि आपने भी महसूस किया होगा कि जल्दबाजी में किए जाने वाले कार्य हमेशा सही नहीं होते है | क्योंकि उसमें कहीं ना कहीं चुक हो जाती है और इसका ख़ामियाज़ा हमे भुगतना पड़ता है|

धैर्य के बारे में हम आपको कुछ और आसान उदाहरण देकर समझाते है|

  • खेती में भी किसान के 100 % बीज नहीं उगते हैं ।
  • Cricket खिलाड़ी को भी हर बॉल पर विकेट नहीं मिलती है । करीब 30 बॉल पर एक विकेट की एवरेज आती है |
  • बड़े युद्ध जीतने के लिए छोटी मोटी लड़ाईयाँ हारनी पड़ती हैं ।
  • अब्राहम लिंकन ने कहा था , ” बात यह नहीं है कि आप असफल हो गये , बल्कि बात यह है कही आप असफलता से संतुष्ट तो नही हो गये|
  • थॉमस एडीसन ने जब बल्ब का आविष्कार किया था तो उसके पहले वे दस हजार बार असफल हुये थे । एडीसन ने सोच लिया था कि हर असफलता उन्हें सफलता के ज्यादा करीब ला रही ।
  • भगवान श्री कृष्ण के उपदेश को हमेशा याद रखे ‘ कर्म करो फल के बारे में चिंता मत करो
  • बड़े बिज़नेस करने वाले बताते हैं किसी भी बिज़नेस को सहीं जमाने के लिए या सफल या सफल करने के लिए कम से 1000 दिन तक उसे करते रहने की जरूरत हैं । तब आप उस काम से कमाने से की उम्मीद कर सकते है |

इसलिए अपना प्रयास लगातार जारी रखे

इस लेख में हमने आपको धैर्य में बारे में बताया है धैर्य क्या और यह इंसान के लिए क्यों जरूरी है अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप अपनी राय हमे कमेंट बॉक्स में बता सकते है और इसे दुसरो के साथ भी शेयर करे ताकि उन्हें भी धैर्य के बारे में बता चल सके |

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here