Inspirational Stoy : हीरे की खोज – एक प्रेरणादायक कहानी

0
91
Inspirational Stoy hindi
Inspirational Stoy hindi

हफीज अफ्रीका का एक किसान था वह अपनी जिंदगी से खुश और संतुष्ट था | हफीज खुश इसलिए था कि वह संतुष्ट था | वह संतुष्ट इसलिए था क्योंकि वह खुश था|

एक दिन एक अक्लमंद आदमी उसके पास आया उसने हफीज को हीरो के महत्व और उनसे जुड़ी ताकत के बारे में बताया | उसने हफ़ीज़ से कहा अगर तुम्हारे पास अंगूठे जितना भी बड़ा हीरा है तो तुम पूरा शहर खरीद सकते हो | और अगर तुम्हारे पास मुट्ठी जितना बड़ा हीरा हो तो तुम अपने लिए शायद पूरा देश ही खरीद लो | वह अक्लमंद आदमी इतना कह कर चला गया उस रात हफीज सो नहीं सका|

वह असंतुष्ट हो चुका था इसलिए उसकी खुशी भी खत्म हो चुकी थी दूसरे दिन सुबह होते ही हफीज ने अपने खेतों को बेचने और अपने परिवार की देखभाल का इंतजाम किया और हीरे खोजने के लिए रवाना हो गया वह हीरो की खोज में पूरे अफ्रीका में भटकता रहा पर उन्हें पा ना सका | उसने उन्हें यूरोप में भी ढूंढा पर वे उसे वहां भी नहीं मिले स्पेन पहुंचते पहुंचते वह मानसिक शारीरिक और आर्थिक स्तर पर पूरी तरह टूट चुका था|

वह इतना मायूस हो चुका था कि उसने बार्सिलोना नदी में कूदकर खुदकुशी कर ली | इधर जिस आदमी ने खेत खरीदे थे वह एक दिन उन खेतों से होकर बहने वाले नाले में अपने ऊँटो को पानी पिला रहा था तभी सुबह के वक्त उग रहे | सूरज की किरणे नाले के दूसरे और पडे एक पत्थर पर पड़ी और वह इंद्रधनुष की तरह जगमगाए उठा|

यह सोच कर कि वह पत्थर उसकी बैठक में अच्छा दिखेगा | उसने उसे उठाकर अपनी बैठक में सजा दिया | उसी दिन दोपहर में हफीज को हीरो के बारे में बताने वाला आदमी खेतों के इस नए मालिक के पास आया उसने उस जगमगाते हुए पत्थर को देखकर पूछा क्या-क्या हाफिज लौट आया | नए मालिक ने जवाब दिया नहीं लेकिन आपने यह सवाल क्यों पूछा अक्लमंद आदमी ने जवाब दिया क्योंकि यह हीरा है|

मैं उन्हें देखते ही पहचान जाता हूं | नए मालिक ने कहा नहीं यह तो महज एक पत्थर है | मैंने इसे नाले के पास से उठाया है | आइए मैं आपको दिखाता हूं वहां पर ऐसे बहुत सारे पत्थर पड़े हुऐ हैं | उन्होंने वहां से नमूने के तौर पर बहुत सारे पत्थर उठाएं और उन्हें जांचने परखने के लिए भेज दिया | वे पत्थर हीरे ही साबित हुए उन्होंने पाया कि उस खेत में दूर-दूर तक हीरे दबे हुए थे|

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है |

  1. जब हमारा नजरिया सही होता है तो हमें महसूस होता है कि हम हीरो से बनी हुई जमीन पर चल रहे हैं|
    मौके हमेशा हमारे पांव तले दबे हुए हैं हमें उनकी तलाश में कहीं जाने की जरूरत नहीं है हमें केवल उनको पहचान लेना है|
  2. दूसरों के खेत की घास हमेशा हरी लगती है|
  3. हम दूसरों के पास मौजूद चीजों को देखकर ललचाते रहते हैं इसी तरह दूसरे हमारे पास मौजूद चीजों को देखकर ललचाते रहते हैं हमसे अपनी जगह की अदला बदली करने का मौका हासिल करके उन्हें खुशी होगी |
  4. जिन्हें मौके की पहचान नहीं होती उन्हें मौके का खटखटाना शोर लगता है|
  5. मौका जब आता है तो लोग उनकी अहमियत नही पहचानते जब मौका जाने लगता है तो उसके पीछे भागते हैं|
  6. कोई मौका दोबारा नहीं खटखटाता था दूसरा मौका पहले वाले मौके से बेहतर या बदतर हो सकता है | पर वह ठीक पहले वाले मौके जैसा नहीं हो सकता है इसलिए सही वक्त पर सही फैसले लेना बेहद जरूरी होता है गलत वक्त पर लिया गया सही फैसला भी गलत बन जाता है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here